Hindi Poetry

मेरी पहली कविता

शब्द और रंग, कविता और चित्र.. पूरक हैं इक दूजे के.. भाव उमड़े, कैनवस पर बहे और सज चले.. लगभग साढ़े चार साल पहले हिंदी में पहली कविता लिखी थी.. जाने कैसे ये पंक्तियां मन में अटक गईं थीं, ध्यान हटता ही न था इनसे

“यहां की ज़मीं, यहां का आसमां
यहां की हवा, यहां का पानी
सब में बस ज़हर ही ज़हर भरा है

हर आदमी खुद से परेशान,
दूसरों पर झुंझलाता यूं ही गुस्सा दिखाता।
सबसे आगे निकल जाने की धुन में
गिरता पड़ता ठोकरें खाता।

एक अजीब सा माहौल है यहाँ,
मेरी समझ से परे, तीखा खट्टा कसैला।
हो जैसे कोई मरूस्थल,
मृगतृष्णा में लिप्त कोई भटकता प्यासा।

बहुत तलाशा मैंने सुकून यहां
पर उसे न मिलना था ना मिला ही।
परेशान हो चढ़ बैठी मैं छत पे
दो पल चैन से जीने
ज़हरीली आबोहवा से निजात पाने।

पर आग के दरिये में मीठी ब्यार कैसे बहे?
दोज़ख़ के ठौर पे जन्नत की खुमार कैसे मिले?

आखिर वही हुआ जिसका डर था
छत का हाल भी न कुछ खास अलग था।
सामने श्मशान था,
अशांत अतृप्त आत्माओं का घर
मंडरा रहे थे चील कौवे और कबूतर।

कुछ शिकार बनते कुछ बनाते
ज़िंदगी की भागदौड़ में
मौत को परास्त करने
की विफल कौशिश करते
और लहराकर गिर जाते।

बहुत अधीर होकर आंखें बंद कर लीं मैंने
सोचा बदल नहीं सकती तो अनदेखा ही कर दूं।
दिल से इक सिसकी फूटी
अब सहन न होगा
बुला ले मुझे मेरे खुदा।

पर उसे कुछ और ही मंज़ूर था
मैंने हिम्मत छोड़ी थी
पर उसने साथ न छोड़ा था।

आंखें खोलीं मैंने, तो श्मशान के ठीक
सामने देवघर को पाया जहां मेरा भगवान
मुस्कुरा रहा था।
मुझे जीने की वजह बता रहा था।

वो चील कौवे सहसा मामूली अवरोध बन गए
कबूतरों की टोली का सफल विरोध बन गए।
सब अपना धर्म निभाते नज़र आए
फल की इच्छा से दूर निस्वार्थ कर्म करते
योगी से लगने लगे।

शायद मेरा दृष्टिकोण ही भ्रमित था
सत्य की आड़ में एक मिथक सा।

दुनिया वही है इसकी कारस्तानी भी वही
छल धोखा बेइमानी भी वही।
पर अब मुझमें कुछ बदलाव आया है
शांत हो गई है वो बेचैनी ।
हर सांस में इक आस है
स्वामी के पास होने का अहसास है।

मीठी तो न हुई ये ज़िंदगी
पर ज़हर की आदत सी हो गई!”

आखिर काग़ज़ पर उकेरकर ही दम आया था…. अपरिपक्व लेखनी शब्द सीमा और संयोजन का उल्लंघन बिन जाने बूझे करती रही, पर ये मन चरम आंनद में डूब गया था … और फिर भाव सरिता बह चली थी, अपने अनगढ़, अल्हड़ अंदाज़ में..

आज सालों बाद ये कविता फेसबुक पर दोस्तों के साथ शेयर की.. और कमाल देखिए कि Sitaram Artist जी ने मिनटों में ही उन शब्दों के पीछे छुपे एहसासों को कुशलता से रंगों में बांध लिया.. या कहूं मुक्त किया.. आखिर शब्द और रंग, कविता और चित्र.. पूरक जो हैं इक दूजे के ☺

 

 

बेहतरीन है उनकी कलाकारी.. और अब मेरी पहली कविता की ही तरह ये चित्र भी मेरी यादों की संदूकची का अमिट हिस्सा 🙂

Anupama Sarkar

 

Leave a Reply