Articles

सूरत में हादसा

सूरत में हादसा

सूरत में हुआ हादसा, फिर फिर, ध्यान दिलाता है कि हम अपनी ही जान को लेकर कितने लापरवाह हैं.. चौथी मंज़िल पर जाने के लिए लकड़ी की सीढ़ियां.. सबसे ऊपर एक्स्ट्रा टायर्स का रखा जाना.. और बाहर निकलने का कोई दूसरा सुरक्षित रास्ता न होना.. कितनी बार यही गलतियां दोहराई […]

by May 25, 2019 Articles
अजब दौर

अजब दौर

पीली साड़ी वाली और नीली ड्रेस वाली.. फोटोज़, विडियोज़, न्यूज़, इंटरव्यूज़.. किसी भुलावे में मत रहिएगा.. यहां पोशाकों के नाम से पुकारे जाने वाली महिलाएं, किसी फिल्म की हीरोइन या रैंप वॉक करती मॉडल्स नहीं हैं.. बल्कि आपकी और मेरी तरह अपनी ड्यूटी करती हुई आम घरों की आम औरतें […]

by May 15, 2019 Articles
पुरुष

पुरुष

अभी अभी एक खबर पढ़ी कि एक पति ने अपनी पत्नी की उंगलियां इसलिए काट डालीं क्योंकि वो आगे पढ़ना चाहती थी.. खून उबल आया, कैसे घटिया लोग हैं इस ज़माने में.. और फिर याद आया, कुछ साल पुराना एक वाकया.. किसी ने चुपके चुपके बतलाया था.. वो अक्सर किसी […]

by May 8, 2019 Articles
टैगोर

टैगोर

प्रिय कवि/लेखक/कलाविद टैगोर का जन्मदिवस हो और पाठकों की वॉल उनकी कविताओं से न सजी हो, ऐसा सम्भव ही कहां… पर मुझे तो रबि दा की स्केचिंग उनके शब्दों से भी कहीं ज़्यादा भाती है… भाव संप्रेषण शब्दों पर निर्भर कहां.. मन में उठती तरंगें, अक्सर रंगों और सुरों में […]

by May 7, 2019 Articles
सोवियत नारी

सोवियत नारी

आप में से किसी को “सोवियत नारी” याद है? बढ़िया क्वालिटी का पेपर, रंग बिरंगी तस्वीरें और जाने कितने ही लेख और कहानियां.. 80 के दशक में घर घर पहुंची थी ये पत्रिका.. रूस और भारत की दोस्ती के दिन थे वो.. मीखेल गोर्बाचोव इंडिया आए थे, राजीव गांधी के […]

by May 4, 2019 Articles
प्रेम विवाह

प्रेम विवाह

प्रेम पर मित्र की कविता पढ़ी.. और देर तक सोचती रही कि सही ग़लत, आगे पीछे, परिस्थितियों और परिणामों को सोचकर प्रेम होता है क्या.. और अगर नहीं तो क्या इनसे प्रभावित भी नहीं होता? छोटा सा शब्द है प्रेम.. पर जितना इस पर लिखने कहने का प्रयास हुआ, शायद […]

by May 2, 2019 Articles
खुलकर जीना ज़रूरी है

खुलकर जीना ज़रूरी है

कुछ वक़्त पहले एक मूवी आयी थी “पीकू”.. मुझे याद है मेरी एक कलीग ने मुंह बनाते हुए कहा था, “हाय हाय, बड़ी गंदी मूवी है, पैसे बेकार हो गए” .. मैं हॉल में मूवी देखने नहीं जाती, सो तब नहीं देखी थी, पर ट्रेलर देखकर, जिज्ञासा हुई थी कि […]

by April 17, 2019 Articles
ब्रह्म कमल, कृष्ण कमल

ब्रह्म कमल, कृष्ण कमल

इस पौधे को अक्सर Braham Kamal कहा जाता है, पर दरअसल यह एक कैक्टस ऑर्चिड है.. रात में खुशबू वाले फूल, अक्सर मानसून के आसपास खिलते हैं.. साइंटिफिक नाम Epiphyllum Oxypetalum और दूसरा पॉपुलर नाम गुल बकावली है.. जबकि ब्रह्म कमल, उत्तराखंड का राज्य फूल है.. कमल कहने के बावजूद […]

by April 7, 2019 Articles