Articles

हाथी दांत पर उकेरे बुद्ध के जीवन दृश्य

The One, Netflix Series

Few years ago, there were movies on Zombies, End of the World, Aliens attack… In short, fantasies that would change the World as we know… But for last few years, there has been a shift… Now the focus is more towards Artificial Intelligence and solid Scientific data… Well, the fantasies […]

by September 24, 2021 Articles
The Handmaid’s Tale, Netflix

The Handmaid’s Tale, Netflix

Handmaid’s Tale, Amazon prime पर एक सिरीज़ है। हो सके तो देखिएगा, पता चलेगा कि औरतों को दबाने के लिए सबसे दबंग हथियार औरत ही क्यों है। जिन औरतों को दूसरों की आज़ादी से चिढ़ हो, वो किस हद तक आदमियों के हाथ की कठपुतली बन जाती हैं, इस से […]

by August 2, 2021 Articles

कस्बे का आदमी, कमलेश्वर

कमलेश्वर की कहानी “कस्बे का आदमी” अभी अभी पढ़ी। छोटे महराज और उनके तोते संतू की कहानी… एक छोटे से कस्बे में रहने वाले, बचपन में ही अनाथ हो, घर द्वार लुटा देने वाले की कहानी! दो पात्र, शिवराज और छोटे महराज, एक ही गली के दो बाशिंदे,और इनके जरिए […]

by June 12, 2021 Articles
तमाशबीन

तमाशबीन

किताबों में पढ़ती थी कि भारत को सपेरों का देश कहा जाता था। हैरानी होती कि क्यों भला, लगता कि खिल्ली उड़ाई जाती रही हमारी, नीचा दिखाने की साज़िश, शायद कहने वालों की मंशा थी भी यही। पर सवाल उठता है कि उन्हें यह कहने का हौंसला हुआ क्यूंकर? कुछ […]

by June 5, 2021 Articles
महामारी या मारामारी

महामारी या मारामारी

सोचा था, जब तक तन और मन दुरुस्त न हो जाए, लिखना avoid करूंगी। पर पिछले कुछ दिन इतना अवसाद, निराशा और चिंता में गुज़रे हैं कि बिना लिखे, मेरा बीपी कंट्रोल होगा नहीं, आखिर इतनी कड़वाहट और गुस्सा लिए, कोई जिए भी तो कैसे? बीमारी को महामारी और महामारी […]

by May 25, 2021 Articles
Ayurved Allopathy and Corona

Ayurved Allopathy and Corona

कल बहुत वक्त बाद आज तक का वीडियो देखा, बहस चल रही थी बाबा रामदेव और आईएमए के डॉक्टर राजन और डॉक्टर लेले के बीच… स्वस्थ और अच्छी डिबेट होती, आयुर्वेद और एलोपैथी के बीच, तो शायद पूरा देखती! पर अफसोस योग और आयुर्वेद के जिस रूप को रामदेव प्रमोट […]

by May 25, 2021 Articles
मीनमेख निकालना

मीनमेख निकालना

कभी कभी कुछ ऐसे शब्द/ मुहावरे टकरा जाते हैं कि आप विस्मित हो उठते हैं कि कितनी ही बार उपयोग करने के बावजूद हम उनका अर्थ नहीं समझ पाए। आज मुझे भी ऐसा ही एक झटका लगा, हरिवंशराय बच्चन की “क्या भूलूं क्या याद करूं” पढ़ते हुए। ज़रा नीचे के […]

by September 19, 2020 Articles
हिंदी या हिन्दी

हिंदी या हिन्दी

भाषा तरल है, भाव और समय के साथ रूपांतरित हो जाना इसकी विशेषता है। पर नियम जानना, व्याकरण और वर्तनी का सही प्रयोग समझना, किसी भी भाषा में अगर आप दक्षता प्राप्त करना चाहते हैं तो अति आवश्यक। मेरी फ्रैंड लिस्ट में बहुत से हिन्दी के ज्ञाता हैं, लेखक, कवि, […]

by September 14, 2020 Articles