Articles

Jnanpith Awarded to Amitav Ghosh

Jnanpith Awarded to Amitav Ghosh

आज सुबह newspaper में पढ़ा Amitav Ghosh becomes First Writer in English to win Jnanpith… ये बात कुछ अटपटी लगी.. अब तक ज्ञानपीठ को भारतीय भाषाओं में लिखने वाले भारतीय लेखकों के लिए जानती थी… नाम से यही बूझती रही और अब तक का इतिहास भी यही दुहराता रहा… पर […]

by December 15, 2018 Articles
छ्ठ पूजन

छ्ठ पूजन

यात्रा का महत्व अपने कलीगस से जाना… स्कूल कॉलेज में इनके बारे में न पता था और न ही इतने massive scale पर देखा था.. पर पिछले कुछ सालों में इनका चलन खूब बढ़ा है.. इस पोस्ट में जो भी लिख रही हूं, खुले दिमाग से इस सोशल change को […]

by November 13, 2018 Articles
Saptaparni trees harmful for Asthma patients?

Saptaparni trees harmful for Asthma patients?

परसों घर लौटते हुए लगभग 2 किमी पैदल चलकर अाई थी, रास्ते में पार्क है, उसमें टहलते हुए आना पसंद है मुझे.. पर धुआं काफी था उस दिन, वहां भी सिर्फ धूल धक्कड़ ही दिखी थी.. बस कुछ देर को सोनाझुरी की खूबसूरती ने मोहा था.. उस दिन कुछ दूरी […]

by November 3, 2018 Articles
Delhi, A Gas Chamber

Delhi, A Gas Chamber

किसान पराली जलाना बन्द नहीं करेंगें… बच्चे और बच्चों से भी ज़्यादा वो वयस्क, जो सिविक सेंस के मामले में ज़िद्दी बच्चों से भी गए गुज़रे हैं, ताबड़तोड़ रबर, कूड़ा, पटाखे जलाना बन्द नहीं करेंगें… कंस्ट्रक्शन करवाने के शौकीन मलबे को ठिकाने लगाने की ज़हमत नहीं उठाएंगे.. प्रदूषित वाहनों के […]

by October 30, 2018 Articles
Bollywood Songs

Bollywood Songs

मम्मी के साथ टीवी पर पुराने गाने देखना मेरी दिनचर्या में शुमार है.. वे तो बस सुनती हैं, पर रंगीन चित्रों में खो अक्सर मैं ही जाती हूं.. chromecast के ज़माने में सीधा सादा टीवी, यूट्यूब की मदद से ऑन डिमांड चित्रहार में तब्दील हो चला है.. आन मिलो सजना, […]

by October 24, 2018 Articles
भ्रम

भ्रम

पवित्र अपवित्र से परे भी सोच लीजिए.. आपका शरीर आपका मन आपके कर्म आपकी आस्था.. निजी है सब.. सार्वजनिक मुद्दों के चलते अपनी निजता को प्रदर्शित करती स्त्रियां भी वहीं खड़ी होकर सोच रही हैं, जहां खड़े होकर, प्रकृति का आदर करते हुए रजस्वला स्त्रियों को अपनी सुविधा से रहने […]

by October 24, 2018 Articles
Self Discipline

Self Discipline

by October 20, 2018 Articles
How relevant is Gandhi?

How relevant is Gandhi?

2 अक्तूबर आते आते गांधी पर चर्चा ज़ोर पकड़ने लगती है.. हर साल लगता है गांधी थोड़े और अप्रसांगिक हुए… और हर बार उनके विचारों से हम थोड़ा और दूर चले आए हैं.. शायद कुछ सालों में उनका नाम और तस्वीर आम जनता के दिल दिमाग से मिटा भी दिया […]

by October 2, 2018 Articles