Articles by: Anupama Sarkar

Love is Hell

Love is Hell

हमारी कंट्री में दो लोगों के साथ होने के फैसले से इतने लोग व्यथित, पतित, ग्रसित हो जाते हैं, कि नो वंडर, तीन चौथाई आबादी, चुपचाप परिवार की मर्ज़ी से शादी करके, ताउम्र, दूसरों की ज़िंदगी में एक्साइटमेंट तलाशती फिरती है.. किसका किस से चक्कर, किसका किस से झगड़ा, किसने […]

by July 13, 2019 Articles
किंडल बुक्स

किंडल बुक्स

बचपन से ही चाव रहा पढ़ने का.. मम्मी की लाई कॉमिक्स हों, नन्दन, चंपक, सुमन सौरभ हो या कादम्बिनी और सोवियत नारी.. हर बार कुछ नया ढूंढ लेता था मन और मैं भाव विभोर हो उन कहानियों को अपने दोस्तों को जस का तस सुनाने बैठ जाती.. तब किसने लिखी, […]

by July 11, 2019 Articles
फ़ुर्सत के पल, अनुपमा सरकार

फ़ुर्सत के पल, अनुपमा सरकार

एक दिन, जिसकी शुरुआत भागदौड़ और ऊहापोह से हो, वो जब ढलते ढलते, इतना मधुर हो जाए तो मन अनायास कह उठता है कि “ओ सूरज, तेरी अगन से परे एक दुनिया और है, जहां बादलों के कारवां, शीतल छांह लिए आते हैं” ज़िंदगी के छोटे मोटे मसले, और उनसे […]

by July 10, 2019 Review
मेरा चांद

मेरा चांद

“आज तारे नहीं आसमां में!” “हैं तो” “कहां, मुझे तो नहीं दिख रहे” “बादलों के आगोश में छिपे हैं” वो पलटकर देखती तो उसकी आंखों की चमक के सामने सितारों का जहां फीका नज़र आता.. पर लड़की की नज़र तो स्याह आसमां में उलझी थी.. कुछ पल ठहर बोली “चांद […]

by July 2, 2019 Fiction
तलाक़

तलाक़

हमारे समाज में पिछले कुछ समय में तलाक़ की संख्या में तेज़ी से बढ़ोतरी हुई है। पर क्या इस बढ़ोतरी का ठीकरा हमें पाश्चात्य संस्कृति पर थोप देना चाहिए या फिर अपने ही समाज में कहीं कुछ ऐसा है, जिस पर ध्यान देने की ज़रूरत है? आजकल तलाक़ होते हैं […]

by June 22, 2019 Articles
Lust or Love

Lust or Love

Women often mistake Men’s Lust as Love He praises her beauty Caresses her tresses Showers kisses Each and every action Screams physical attention And yet the woman, stupidly Misunderstands it as Love She cares, She worries She dares, She hurries She is neck deep in love Her bosom may excite […]

by June 14, 2019 Poetry
गिरीश कर्नाड, श्रद्धांजलि

गिरीश कर्नाड, श्रद्धांजलि

लगभग 18 साल पहले एक नाटक पढ़ा था “तुगलक”.. एम ए इंग्लिश कोर्स का हिस्सा था.. पोस्ट ग्रेजुएशन कर ही इसलिए रही थी ताकि इस विज्ञान के विद्यार्थी रहे दिमाग का साहित्य से परिचय हो पाए.. कमला दास, nissim ezekiel, मुल्क राज आंनद और गिरीश कर्नाड.. मेरे लिए ये सब […]

by June 10, 2019 Articles
बस मेट्रो सफ़र मुफ़्त

बस मेट्रो सफ़र मुफ़्त

दिल्ली सरकार का एक प्रस्ताव है, बस और मेट्रो में स्त्रियों के लिए मुफ़्त यात्रा का.. इसी विषय में मेरे कुछ विचार “एक लंबे समय से राखी और भाई दूज पर डीटीसी बसों में स्त्रियों के लिए मुफ्त यात्रा का प्रावधान रहा है.. इसका फ़ायदा यकीन मानिए कि उन्हीं औरतों […]

by June 4, 2019 Articles