Hindi Poetry

बारिश

बादल छाए हैं
धुएं का आवरण आसमां को पहनाए
हल्की हल्की बारिश की बूंदों से
लहकती धरती
अपनी बरसों की तृष्णा को
तृप्त करने की पुरजोर कोशिश करती।

एक तरफ असीम आकाश
दूसरी तरफ अथाह पृथ्वी।

और इन दो दिग्गजों के बीच
विस्मित सी खड़ी मैं
निरीह बालक सी परिस्थितियों को
बदलते समीकरणों को
समझने का छोटा सा
प्रयास करती।

2 Comments

  1. एक तरफ असीम आकाश
    दूसरी तरफ अथाह पृथ्वी।

    bahut sundar Anu.

    निरीह बालक सी परिस्थितियों को
    बदलते समीकरणों को
    समझने का छोटा सा
    प्रयास करती।

    Samajhte rahne ke alawa koi aur vikalp nahi. Jeevan chalte rahne ka naam hai aur mera yah manna hai ki har din hum thode aur mature hote jaate hain. Samjhane ki prakriya chalti rahe to hum kai aane wali nirashaon se khud ko bacha sakte hai.

    Bahut hi sundar kavita.

  2. Well said Shaifali. Life is indeed a journey meant to be explored, destination is of least importance, main thing is to imbibe and live every moment. Tried to capture one such moment in this poem

Leave a Reply