Hindi Poetry

डायरी

खोले बैठी हूँ आज वो पुरानी डायरी
जिसके कोरे सफहों पर कुछ नज़्में लिखी थीं
खो गई थी कुछ रोज़ से
पूरा बुकरैक छान मारा था मैंने
मिल ही नहीं रही थी
आज अचानक टेबल की ड्रॉर में मिली
शायद कभी वहाँ रख भूल गई थी
मैं भी न चीज़ों को ढूंढती ही गलत जगह हूँ
या फिर खोजते-खोजते खुद ही खो जाती हूँ कहीं
खैर उन पीले पड़ते पन्नों को पलटा तो
कुछ नज़्में बोल उठीं
नाराज़ हैं मुझसे
अधूरी छोड़ दी थीं लाइनें ही नहीं
लफ्ज़ों के बीचोंबीच भी जगह बाक़ी है
शायद कोई ख्याल लिखते-लिखते छूट गया था
या मैंने ही गुंजाईशें बहुत छोड़ रखी थीं
अब भर देना है इन सूराखों को
एयर टाईट कर देनी है ये डायरी
और सहेजकर महफूज़ रख देनी है कहीं
बहुत हुई आवाजाही !

2 Comments

  1. suberb…khud hi khud se samwad….jai ho

  2. Thank u so much Bairagi

Leave a Reply