Review

Lipstick under my Burkha

Lipstick under my Burkha

कल Lipstick under my Burkha देखी… कई बार कुछ चीज़ें इतनी हाइप कर दी जाती हैं कि आपके मन में उन्हें लेकर बहुत से पूर्वाग्रह बन जाते हैं.. पर अच्छा ये हुआ कि मैंने लगभग बराबर मात्रा में इस फिल्म के पॉज़िटिव और नेगेटिव रिव्यू सुने.. लगा कि शायद ये […]

by August 21, 2017 Review
हिन्दी मीडियम

हिन्दी मीडियम

इरफान खान की हर मूवी देखने से पहले ही ये इत्मीनान मन में लिए चलती हूं कि कहानी अच्छी न भी हुई तो भी कम से कम एक character तो जानदार रहेगा ही.. उनकी लास्ट मूवी शायद लंचबॉक्स देखी थी और उस से कुछ समय पहले मदारी… हर बार ये […]

by August 7, 2017 Review
प्रेमचंद विशेषांक: खुशबू मेरे देश की

प्रेमचंद विशेषांक: खुशबू मेरे देश की

मुंशी प्रेमचंद की कहानियां लगभग १०० वर्ष बीत जाने पर भी उतनी ही प्रासंगिक लगतीं हैं जितनी कि प्रकाशित होते समय रही होंगी। शायद उनकी लोकप्रियता का सबसे बड़ा कारण उनकी रचनाओं का किसी समय या परिस्थिति विशेष से परे, मानवीय संवेदनाओं और संबंधों से जुड़े होना ही है। कुछ […]

by July 24, 2017 Articles, Review
Promises of a Firefly by Anupam Patra

Promises of a Firefly by Anupam Patra

Just finished reading Promises of a Firefly by Anupam Patra and I am still recovering from the after effects of being subjected to emotionally intense, tear jerking, depth defying tales of love and longing, for the entire journey of 209 pages. Phew! What a feat by a debutant writer. I […]

by July 21, 2017 Review
लेडीज़ होस्टल : गीता अय्यर

लेडीज़ होस्टल : गीता अय्यर

जीवन के सफर में हर मोड़ पर कुछ लोग मिलते हैं। किसी से स्नेह का रिश्ता बन जाता है, तो कहीं केवल परिचय पर ही बात खत्म। और हम आगे बढ़ जाते हैं। स्वप्न, लक्ष्य, कर्म, व्यवहार, हर मोड़ पर बदलता है और ये परिवर्तन शायद जीने की पहली और […]

by July 7, 2017 Review
The Crown

The Crown

“Scientia Potentia Est” the mighty words uttered by Sir Francis Bacon, centuries ago, firmly dictated that knowledge is power. Indeed! But, strangely the adage sounds equally plausible when reversed. Power is Knowledge. A knowledge of your own character, your limitations, your strengths, your weaknesses and certainly your ability to change […]

by June 30, 2017 Review
The Matsya Curse by Shweta Taneja

The Matsya Curse by Shweta Taneja

Giant spiders hanging out in a bar, delicately featured Bharundas, shrieking at high pitch and Maut Worshippers banging their head and tapping their feet in tandem with high music. Unknown and unheeded, among these charas smoking, piss drinking Sups, a preta tantrik from Banaras is roaming on the streets of […]

by June 29, 2017 Review
A Decent Arrangement

A Decent Arrangement

There are stories, one can remember for decades. There are movies, one can watch umpteen number of times, without getting bored. And, then there are conversations, one can never forget, despite not playing any active role. The connecting thread here is, of course, the one and only one, myriad emotions. […]

by June 27, 2017 Review