My Published Work

शायर

शायर

पसीना बहा सफेद पन्नों पर नज़्में नहीं लिखी जातीं न किसी की खिल्ली उड़ा गज़लों में जान आती है जज़्ब करने पड़ते हैं आंसू खून जलाया जाता है नासूर से गलती हड्डियों से टपकता मवाद खूबसूरत परतों में सहेज लफ्ज़ों में सजाया जाता है तब उभरती है कागज़ की ज़मीन […]

by December 2, 2016 Hindi Poetry, My Published Work
परमार्थी

परमार्थी

कड़कड़ाती बिजली गड़गड़ाते बादल झमाझम बरसता निर्मल जल और कहीं लुका-छिपा सा सूरज खूबसूरत है दिन आज! इन मेघों को खूब कोसा है मैंने उलाहने भी दिए हज़ार आते जाते जाने कितनी बार देखा मुड़कर किया इंतज़ार पर क्षितिज को छूने की शिखर पर चढ़ने की ललक में अनदेखा भी […]

by September 7, 2016 Hindi Poetry, My Published Work
वो कौन थी

वो कौन थी

आज फिर से उन्हीं गलियों से सामना हुआ। वही घूमती सड़कें, वही झूमते पेड़ और वही बूढ़ी अम्मां ! मेरा इस जगह से परिचय काफी पुराना है। एक समय था जब रोज़ यहाँ से गुज़रा करती थी। घंटे भर का सफ़र होता था घर से दफ्तर का। बस यूं ही […]

by September 2, 2016 My Published Work
Poems in Upasana Samay

Poems in Upasana Samay

Poems published in Upasana Samay August 2014

by June 24, 2016 My Published Work
Poem in Shabdvyanjana

Poem in Shabdvyanjana

   

by June 24, 2016 My Published Work
Nature and Humanity : In Defender

Nature and Humanity : In Defender

by June 15, 2016 My Published Work, Poetry
वो लड़की

वो लड़की

by June 12, 2016 Hindi Poetry, My Published Work
थक गए बादल

थक गए बादल

by June 12, 2016 Hindi Poetry, My Published Work