My Published Work

अमलतास

अमलतास

आज देखा अजब नज़ारा गुलमोहर भी किसी से हारा! हुआ कुछ यूं कि हम चल रहे थे दीवार के साथ साथ वही निर्जीव लाल दीवार जो अपने पीछे जाने कितनी सुंदरता छुपाए बैठी है! पर आज उसकी शान ही कुछ अलग थी अमलतास के फूलों से जो ढकी थी कोमल […]

by April 20, 2017 Hindi Poetry, My Published Work
My Five Poems on INVC

My Five Poems on INVC

by April 3, 2017 My Published Work
Poems in Madhurakshar

Poems in Madhurakshar

मधुराक्षर के अप्रैल-जून 2017 अंक में प्रकाशित मेरी दो कविताएँ 🙂

by April 3, 2017 My Published Work
Published in Madhurakshar

Published in Madhurakshar

उलझ जाती हूँ इन शब्दों के मकड़जाल में। असीमित वाक्य अनकहेे स्वर विरामों में छुपे नए तथ्य। अब तो इन शब्दों की गर्दन दबोचना चाहती हूँ बांहें मरोड़ना पांव तोड़ना चाहती हूँ अर्क निकाल देना चाहती हूँ भाषा के इन प्रहरियों का शायद कुछ नए अर्थ समझ पाऊँ! Anupama (Published […]

by March 15, 2017 My Published Work
छात्र संसद में

छात्र संसद में

आज छात्र संसद अखबार में प्रकाशित मेरी कविता

by March 8, 2017 My Published Work
जूते : लघुकथा

जूते : लघुकथा

जूतों की दुकान खुली पड़ी थी और जीजा, चाचा, फूफा अपनी पसंद और नाप के अनुसार चुन रहे थे। मुफ़्त का माल ही सही, क्वालिटी चैक कर लेने में जाता ही क्या है। जब से गोपाल ने ये दुकान खोली थी, रिश्तेदारों की पांचों ऊंगलियाँ घी में थीं। भोला-भाला आदमी, […]

by March 5, 2017 Fiction, My Published Work
ऊंचा आसमां

ऊंचा आसमां

आसमां यकायक बहुत ऊंचा हो गया है दूर कहीं फलक पर सूरज चमक रहा है। बादल भी छितरे से हैं कहीं गहरे नीले तो कहीं धुंधलाए से सफेद जैसे स्याही की शीशी उड़ेल दी हो किसी अनाड़ी ने। क्षितिज पर लिखे अक्षर मिट से गए हैं क्या मालूम कभी कुछ […]

by March 5, 2017 Hindi Poetry, My Published Work
Mashaal : Anthology

Mashaal : Anthology

by February 22, 2017 My Published Work