Fursat ke Pal

फुर्सत के पल : 7

फुर्सत के पल : 7

ब्रह्म मुहूर्त… अस्त होते चन्द्रमा के मद्धम प्रकाश में, उत्श्रृंखल सागर के किनारे गहरी गीली बालू… और दायें पांव के नख के अग्र भाग से अपना नाम अंकित करती एक परछाईं… नेपथ्य में शंखनाद और मन के कोने में उमड़ते भाव स्वतः जुड़ गए.. परन्तु प्रकृति में कुछ भी अकारण […]

by March 8, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
फुर्सत के पल : 6

फुर्सत के पल : 6

शहद की बूँद सी पारदर्शी आवाज़, पूर्व नियोजित दिशा में तेज़ी से बढ़ते हुए, हौले से जल के मध्य में तरंगें उत्प्न करती हुई.. ठीक वैसे ही जैसे गोधूलि के समय प्रकृति में असीम शांति और पवित्रता हमजोली बनकर मुस्कुराते हैं… वैसे ही जैसे उत्तर दिशा में उदित तारा, चन्द्रमा […]

by March 7, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
फुर्सत के पल : 5

फुर्सत के पल : 5

शर्मीला सूरज गुलाबी चमक लिए जागा है आज। चन्दा ने चादर तानकर सोने का फैसला लिया है। आज उसकी धवल चांदनी नहीं, सूरज की लालिमा ही सबके मन में छाई है। बादलोँ ने सुबह सवेरे हल्का सा गरज बरस कर शुभ मंगल सर्वदा की हुंकार लगा दी है। सेमल की […]

by February 7, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
फुर्सत के पल : 4

फुर्सत के पल : 4

आज घर लौटते हुए जब पार्क से गुज़री तो खासी भीड़ थी वहां। दिल्ली का मौसम अंगड़ाइयां ले रहा है आजकल, सर्द हवाएं लुक्काछिपी खेल रही हैं और हम दिल्लीवासी, ठण्ड में ठिठुरने को आतुर भी हैं और भीषण सर्दी के न आने से खुश भी। आखिर, अति हर बात […]

by February 2, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
फुर्सत के पल : 3

फुर्सत के पल : 3

One for Sorrow, Two for Joy…. बचपन में मैनों के जोड़ों को देखकर अक्सर चिल्लाते थे हम, मानो, सच में दो मैना साथ देखकर ख़ुशी ने अचानक से धावा बोल दिया हो। जब दफ़्तर जाने लगी तो पूसा का हरा भरा इलाका मेरे नियमित रुट का हिस्सा हो गया और […]

by February 2, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
फुर्सत के पल : 2

फुर्सत के पल : 2

तेज़ी से उठता मिट्टी का ग़ुबार, कई कुत्तों के एक साथ भौंकने की आवाज़, मिमियाती बकरियां, पत्थर फेंकते बच्चे और तमाशा देखते बूढ़े और जवान। आज ये दृश्य मेरी नज़रों के सामने पड़ोस की झोंपड़ पट्टी से सटी छोटी सी पार्क में घटित हुआ। हुआ कुछ यूँ कि दफ्तर से […]

by January 28, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
फुर्सत के पल

फुर्सत के पल

जब भी पैदल चलती हूँ, ये नज़र पेड़ों, लोगों, पत्थरों, इमारतों, जानवर, पंछी, चबूतरों, दीवारों में उलझने लगती है। जो मज़ा धीमी गति से टहलते हुए, आसपास के नज़ारों को महसूस करने में है, वो किसी तेज़ भागती बस, ट्रेन या गाड़ी में बैठे हुए कहाँ। हालाँकि थोड़ी सी आलसी […]

by January 27, 2016 Fiction, Fursat ke Pal
पतंगबाज़

पतंगबाज़

आसमान में उड़ती रंग बिरंगी पतंगें बहुत भाती हैं मुझे.. लगता है जैसे कागज़ को पंख मिल गए… जड़ खड़े पेड़ों का बादलोँ को छूने का अरमान पूरा हो गया… हवा संग डोलतीं.. नई ऊंचाइयां छूतीं.. इतरातीं… बलखातीं ये कोरी तितलियाँ बिलकुल आज़ाद नज़र आती हैं.. पर ध्यान से देखूँ […]

by November 24, 2015 Fiction, Fursat ke Pal