Articles by: Anupama Sarkar

Suraj ka Satvan Ghoda

Suraj ka Satvan Ghoda

“सूरज का सातवां घोड़ा” धर्मवीर भारती जी का चर्चित उपन्यास शायद हम में से बहुतों ने पढ़ा हो, पर कभी कभी शब्दों से परे, किसी इंसान के हाव भाव में कहानी को जीते हुए देखना, दिल को छू लेता है.. जी, मैं बात कर रही हूं श्याम बेनेगल निर्देशित फिल्म […]

by January 17, 2018 Review
प्यार या परवाह

प्यार या परवाह

कुछ समय पहले Forrest Gump देखी थी, टॉम हैंक्स जो भी किरदार निभाते हैं, इतनी शिद्दत से उसे स्क्रीन पर उतारते हैं कि आप कहानी को सच समझ बैठें, और उस किरदार के साथ आने वाली परेशानियों और खुशियों में शामिल हो जाएं.. बस यही हाल मेरा था, जब जब […]

by January 16, 2018 Fursat ke Pal, Kuch Panne
स्वराज खबर में मेरी समीक्षा

स्वराज खबर में मेरी समीक्षा

पटना के निवासी “स्वराज खबर” समाचार पत्र से तो वाक़िफ होंगें ही। आज इस अखबार के सृजन संसार में छपी है मेरी की हुई एक समीक्षा। पुस्तक है “तथागत”, डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना जी द्वारा रचित प्रबन्ध काव्य और उसकी विवेचना मैंने की। आप भी पढ़िएगा। एक झलक

by January 15, 2018 My Published Work
मेरी समीक्षा अखबार में

मेरी समीक्षा अखबार में

14 जनवरी 2018 को मकर संक्रांति का दिन सुखद समाचार के साथ आरंभ हुआ। सुबह सवेरे ही मालूम हुआ कि तथागत, डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना जी द्वारा लिखे प्रबन्ध काव्य, की मैंने जो समीक्षा की थी, वह एक अखबार “विजय न्यूज़” में प्रकाशित हुई है। एक झलक

by January 14, 2018 My Published Work
साझा संग्रह प्रकाशित

साझा संग्रह प्रकाशित

विश्व पुस्तक मेले 2018 में 09 जनवरी को मेरे दो साझा संग्रह “शब्दों की अदालत में” और “परदे के पीछे की बेखौफ आवाज़ें” परिवर्तन संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम रूबरू में लोकार्पित हुए। दोनों ही संग्रहों में मेरी पांच पांच कविताएं हैं व ये साहित्य संचय प्रकाशन से प्रकाशित हुए हैं। […]

by January 14, 2018 Events, My Published Work
Half Girlfriend by Chetan Bhagat

Half Girlfriend by Chetan Bhagat

Half Girlfriend, an intriguing title, from an equally popular and controversial author, Chetan Bhagat. Needless to say, the moment I saw this book was available for free on Kindle Unlimited, I made an impulsive decision to read yet another novel by Chetan. My past experience with him has been a […]

by January 13, 2018 Review
तथागत, डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना

तथागत, डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना

उन्नत ललाट, तीखी नाक, ध्यान में लीन, कमल सरीखी आंखें, चेहरे पर तेज और असीम शांति का भाव.. मैंने जब भी बुद्ध की कल्पना की, यूं ही की.. शायद कुछ प्रभाव उनकी मूर्तियों और चित्रों को देखकर भी हुआ हो, पर जाने क्यों हमेशा महसूस हुआ कि जिसका मन दर्पण […]

by January 12, 2018 Review
विश्व पुस्तक मेले में एक दिन

विश्व पुस्तक मेले में एक दिन

आज घूमकर अाई विश्व पुस्तक मेले 2018 में.. मौका था और दस्तूर भी.. मेरे दो साझा संग्रह, आज लेखक मंच पर “रूबरू” इवेंट में विमोचित होने थे.. तेज प्रताप जी, दामिनी यादव जी और स्नेह सुधा जी के कुशल संपादन में संचय प्रकाशन से “पर्दे के पीछे की बेखौफ आवाज़ें” […]

by January 9, 2018 Events