Other News

स्मृति चिन्ह

स्मृति चिन्ह

स्मृति चिन्ह हमेशा मीठे होते हैं कड़वी यादों के पल भी हल्की सी चीनी तो घोल ही जाते हैं रिश्तों में। याद कराते हैं न कि कैसे उन पलों को जिया था जब ज़िंदगी रूठी सी लगती थी अंधेरा छंटने का नाम ही न लेता था वो गुफा खाई की […]

by February 25, 2017 Hindi Poetry
विचार

विचार

विचार कच्चे चावल हैं कल्पना के जल व मेधा की अग्नि में मद्धम मद्धम पक जीवन-ऊर्जा देते हैं… Anupama

by February 25, 2017 Pearls of Wisdom
Mashaal : Anthology

Mashaal : Anthology

by February 22, 2017 My Published Work
जल

जल

बहता दरिया घुमड़ते बादल पिघलते ग्लेशियर नभ से भूतल तक तैरता, उड़ता, फिसलता केवल जल ! पथरीली राहों में काली घटाओं में संकरी गुफाओं में आंखों से सांसों तक सहता, रिसता, चिहुंकता केवल जल ! तरसती निगाहों में बहकती सांसों में, दहकती आहों में कोरों से होंठों तक टपकता, महकता, […]

by February 21, 2017 Hindi Poetry
लेखन : वर्गीकरण

लेखन : वर्गीकरण

बच्चे सभी खेलते हैं, कोई टायर घुमाकर, कोई रिमोट वाली कार चलाकर और कोई 3D एनीमेशन में वर्चुअल रियलिटी को भरपूर जीते हुए… कह सकते हैं कि जिसकी जैसी परिस्थतियां, वैसा ही उसका मनोरंजन और रूचि… कभी कभी लगता है कि शैक्षिक योग्यता व रोज़गार की ज़रूरतों से इतर होकर […]

by February 20, 2017 Articles
मशाल

मशाल

कल शाम Tej Pratap जी के सान्निध्य में आयोजित परिवर्तन साहित्यिक मंच की कवि संगोष्ठी और मशाल पुस्तक के विमोचन में सम्मिलित होने व काव्य पाठ करने का अवसर मिला.. गोष्ठी में वरिष्ठ कवि एवं गीतकार Dr-Gorakh Prasad Mastana जी से भेंट हुई… उनके जोशीले काव्यपाठ ने समां बांध दिया.. […]

by February 19, 2017 Events
Sargam Tuned

Sargam Tuned

No matter, how many poems I compose or stories I write, as a creator, it gives me immense pleasure to see my work in printed form. Books make me nostalgic, they drive me down memory lanes and when they happen to have my own work, the magic doubles. On July […]

by February 19, 2017 Events, My Published Work
परिवर्तन

परिवर्तन

ये जो हवाएं चलती हैं फरवरी में, बहुत भाती हैं इस मन को। और क्यों न भाएं, बसंत ऋतुराज यूँ ही तो नहीं। प्रकृति में परिवर्तन, ऊर्जा संचार का सबसे मौलिक रूप ठहरा और मौलिकता प्रभावित करती है मुझे। गर्वीली सरदी अपना कसैलापन लिए विदा होने को है और पतझड़ […]

by February 18, 2017 Kuch Panne